Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

तन मन धन अर्पण करूं

तन मन धन अर्पण करूं, ध्याऊँ तुझे नित श्याम
चरणों की चेरी बनकर, करूं सेवा निष्काम
छ्ल- कपट लोभ प्रपंच से सदा रहूँ मैं दूर
बन वृन्दा निधिवन की मैं, बसूँ वृन्दावन धाम

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 525 Views
You may also like:
सुन लो बच्चों
लक्ष्मी सिंह
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
हँसते हैं वो तुम्हें देखकर!
Shiva Awasthi
कवित्त
Varun Singh Gautam
*सीधा-सादा सदा एक - सा जीवन कब चलता है (गीत)*
Ravi Prakash
नवगीत -
Mahendra Narayan
प्रेम की राह पर-59
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यशोधरा के प्रश्न गौतम बुद्ध से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बी एफ
Ashwani Kumar Jaiswal
उदास
Swami Ganganiya
Trust
Manisha Manjari
आँखों में आँसू क्यों
VINOD KUMAR CHAUHAN
रोटी
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
मौन भी क्यों गलत ?
Saraswati Bajpai
ऐसी थी बे'ख़याली
Dr fauzia Naseem shad
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
✍️कभी कभी
'अशांत' शेखर
बदलाव चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
[ कुण्डलिया]
शेख़ जाफ़र खान
लगा हूँ...
Sandeep Albela
तेरी खैर मांगता हूं।
Taj Mohammad
अनोखा‌ रिश्ता दोस्ती का
AMRESH KUMAR VERMA
सच एक दिन
gurudeenverma198
ख़ुशी
Alok Saxena
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
जवाब दो
shabina. Naaz
Loading...