Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 21, 2022 · 1 min read

तन-मन की गिरह

कोई तो मेरे मन की
तन से सुलह करा दे।
तन मन की जो गिरह है
कोई उसे सुलझा दे।
तन है विवश कि जग से
है साम्यता जरूरी ।
मन तो है मुक्त चिंतन
भाये उसे फकीरी ।
तन की जुगत है बंधन
सारे सभी तुम साधो ।
मन कहता जी लो जीवन
इसको न व्यर्थ बांधो ।
तन मन प्रथक दिशा में
जीवन निःसार सा है ।
तन भी थका हुआ सा
मन भी निढ़ाल सा है |
बस बढ़ रहा समय ये
सांसे ये घट रहीं हैं ।
क्या कहते इसको जीवन
जो श्वांस चल रही है।

52 Views
You may also like:
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
मेरी खुशी तुमसे है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
कच्चे आम
Prabhat Ranjan
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
बदला
शिव प्रताप लोधी
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
नन्हें फूलों की नादानियाँ
DESH RAJ
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
पर्यावरण बचाओ रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
मुक्तक
Ranjeet Kumar
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...