Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-105💐

##मणिकर्णिका##
##ये सब गीत हैं, इन्हें कब पूरा किया जाये।
##Bonie, Bonie, Bonie
##कुछ अपना भी सुनाओ,कभी
##यूँ ही मुस्कुराओ कभी।
##तुम फट्टू ही रहोगी, महा फट्टू।

तन्हा हूँ बहुत तन्हा,हवाओं उनसे कहो,
और कहो अपने ख़्याल तो भेजते रहें।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
1 Like · 57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
पत्रकार
पत्रकार
Kanchan Khanna
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु
गुरु
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
पहला प्यार
पहला प्यार
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
वैभव बेख़बर
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सभी मां बाप को सादर समर्पित 🌹🙏
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
तुम्हारी सादगी ही कत्ल करती है मेरा,
Vishal babu (vishu)
💐प्रेम कौतुक-437💐
💐प्रेम कौतुक-437💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
The story of the two boy
The story of the two boy
DARK EVIL
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
मैयत
मैयत
शायर देव मेहरानियां
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
इक तुम्हारा ही तसव्वुर था।
इक तुम्हारा ही तसव्वुर था।
Taj Mohammad
*धन्य-धन्य वे लोग हृदय में, जिनके सेवा-भाव है (गीत)*
*धन्य-धन्य वे लोग हृदय में, जिनके सेवा-भाव है (गीत)*
Ravi Prakash
I am sun
I am sun
Rajan Sharma
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऋतु सुषमा बसंत
ऋतु सुषमा बसंत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
कुछ ख़त्म करना भी जरूरी था,
पूर्वार्थ
हादसे बोल कर नहीं आते
हादसे बोल कर नहीं आते
Dr fauzia Naseem shad
बिडम्बना
बिडम्बना
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"जब मिला उजाला अपनाया
*Author प्रणय प्रभात*
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
सूखे पत्तों से भी प्यार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
बहुत असमंजस में हूँ मैं
बहुत असमंजस में हूँ मैं
gurudeenverma198
#justareminderekabodhbalak
#justareminderekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
नारी जगत आधार....
नारी जगत आधार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
सत्य पथ पर (गीतिका)
सत्य पथ पर (गीतिका)
surenderpal vaidya
Loading...