Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#10 Trending Author
Jun 27, 2016 · 1 min read

तन्हा ही करते सफर देखा गया

छूटता दोषी इधर देखा गया
धन को पुजते जब उधर देखा गया

मौत से कोई बचा पाया नहीं
पर डरा हर उम्र भर देखा गया

ज़िन्दगी जिनसे मिली जग में उन्हें
बोझ अक्सर मान कर देखा गया

दोस्त कितने हो यहाँ पर आदमी
तन्हा ही करते सफर देखा गया

होटलों को शक्ल देकर गांव की
फख्र करता अब शहर देखा गया

प्यार में पलकें झुकी यूँ शर्म से
उनको बस इक ही नज़र देखा गया

वक़्त रहता एक सा कब अर्चना
गुम भी अक्सर नामवर देखा गया

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 261 Views
You may also like:
वो काली रात...!
मनोज कर्ण
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
फरिश्ता से
Dr.sima
✍️हम सब है भाई भाई✍️
"अशांत" शेखर
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
रामे क बरखा ह रामे क छाता
Dhirendra Panchal
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️जिंदगी की सुबह✍️
"अशांत" शेखर
इश्क ए उल्फत।
Taj Mohammad
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
आजमाइशें।
Taj Mohammad
मुकरियां_ गिलहरी
Manu Vashistha
हसरतें थीं...
Dr. Meenakshi Sharma
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
मौन की पीड़ा
Saraswati Bajpai
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कायनात के जर्रे जर्रे में।
Taj Mohammad
🍀🌺प्रेम की राह पर-51🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये दुनियां पूंछती है।
Taj Mohammad
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
Loading...