Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2016 · 1 min read

तन्हा ही करते सफर देखा गया

छूटता दोषी इधर देखा गया
धन को पुजते जब उधर देखा गया

मौत से कोई बचा पाया नहीं
पर डरा हर उम्र भर देखा गया

ज़िन्दगी जिनसे मिली जग में उन्हें
बोझ अक्सर मान कर देखा गया

दोस्त कितने हो यहाँ पर आदमी
तन्हा ही करते सफर देखा गया

होटलों को शक्ल देकर गांव की
फख्र करता अब शहर देखा गया

प्यार में पलकें झुकी यूँ शर्म से
उनको बस इक ही नज़र देखा गया

वक़्त रहता एक सा कब अर्चना
गुम भी अक्सर नामवर देखा गया

डॉ अर्चना गुप्ता

1 Comment · 350 Views
You may also like:
Advice
Shyam Sundar Subramanian
हमने हंसना चाहा।
Taj Mohammad
वो मुझे फिर उदास कर देगा
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ भी इंकलाबी हो
Shekhar Chandra Mitra
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
कमली हुई तेरे प्यार की
Swami Ganganiya
क्या हार जीत समझूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
मनुआँ काला, भैंस-सा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गजानन
Seema gupta ( bloger) Gupta
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
* रौशनी उसकी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
A poor little girl
Buddha Prakash
#udhas#alone#aloneboy#brokenheart
Dalveer Singh
"फल"
Dushyant Kumar
जिसकी फितरत वक़्त ने, बदल दी थी कभी, वो हौसला...
Manisha Manjari
✍️साबिक़-दस्तूर✍️
'अशांत' शेखर
HAPPY BIRTHDAY PRAMOD TRIPATHI SIR
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"बिहार में शैक्षिक नवाचार"
पंकज कुमार कर्ण
वर्क होम में ऐश की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*नाम गुलामी-भरे इंडिया ,का न नाम-निशान हो (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Religious Bigotry
Mahesh Ojha
मिटटी
Vikas Sharma'Shivaaya'
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
फरियाद
Anamika Singh
सञ्जीवनी साधना
Er.Navaneet R Shandily
कर कर के प्रयास अथक
कवि दीपक बवेजा
Loading...