Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 30, 2021 · 1 min read

तनहाई

इस मुकाम पर आकर तो देखो अकेले।
काट खायेंगी तुम्हें यह दर यह दीवारें।
सोचो कैसे तनहाई में रह रहे हैं बिन तुम्हारे।
हमसे भी पूछ रही हैं तुम्हारा हाल यह दर यह दीवारें।
हर एक लम्हा बीतता है तुम्हें याद करके।
हम तो बस जी ही रहे हैं मर मर के।
अब तो हमारी सांसे भी बेचैन रहती हैं।
हर वक्त कुछ न कुछ तुम्हारे बारे में कहती हैं।
तनहाई में बस कहते रहते हैं तुम आ जाओ तुम आ जाओ।
अपने आशिक को इतना मत तड़पाओ तुम आ जाओ तुम आ जाओ।

“समीर”

1 Like · 133 Views
You may also like:
Only Love Remains
Manisha Manjari
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
दरों दीवार पर।
Taj Mohammad
अति का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
विषय:सूर्योपासना
Vikas Sharma'Shivaaya'
वह मेरे पापा हैं।
Taj Mohammad
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
सब्जी की टोकरी
Buddha Prakash
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदियों का दर्द
Anamika Singh
✍️तमाशा✍️
"अशांत" शेखर
विश्वेश्वर महादेव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
' स्वराज 75' आजाद स्वतन्त्र सेनानी शर्मिंदा
jaswant Lakhara
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग४]
Anamika Singh
गरीब की बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
फौजी
Seema Tuhaina
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
ग़ज़ल
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
ईद
Taj Mohammad
फ़रेब-ए-'इश्क़
Aditya Prakash
खुदा भेजेगा ज़रूर।
Taj Mohammad
✍️दिल बहल जाता है।✍️
"अशांत" शेखर
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
पैसों से नेकियाँ बनाता है।
Taj Mohammad
इंतजार
Anamika Singh
अनामिका के विचार
Anamika Singh
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Loading...