Oct 3, 2016 · 1 min read

तकिया

खूबसूरत दुनियाँ में आने से पहले
माँ का गर्भ ही मेरा मात्र तकिया था
किसी शहनशाह के तख्तेताऊस सा
वो सर्वदा ऊँचा मुझे लगा करता था

स्मृतियाँ अस्तित्व की बुलबुलों बन
उठ सुंदर भूत में ले जाती है मुझको
जहाँ भूल मैं दुनियाँ की विद्रूपता को
चैन की नींद सोया करती थी रोज

खोल पलक रखा डग दुनियाँ में
अविरल तकियों को बदलती रही
कोख के तकिये में बेखटक सोयी
पा के कन्धे से लग कर मुस्कायी

कपड़े का तकिया मिला जब से
रंग बदलते हर पल जहाँ के देखे
सिरहाना कहूँ या तकिया दोनों ही
तब से आज तक मुझे न ये भाये

तकिया अच्छा लगता है बाहों का
वो ही सिरहाना मुझे बस भाता
दुनियाँदारी से दूर राहत दिलाता
हर पल वजूद का भास कराता

डॉ मधु त्रिवेदी

72 Likes · 215 Views
You may also like:
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
रिश्तों की कसौटी
VINOD KUMAR CHAUHAN
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
सारी फिज़ाएं छुप सी गई हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे पापा।
Taj Mohammad
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
*अंतिम प्रणाम ! डॉक्टर मीना नकवी*
Ravi Prakash
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
माँ तेरी जैसी कोई नही।
Anamika Singh
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
पिता
Deepali Kalra
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
परीक्षा एक उत्सव
Sunil Chaurasia 'Sawan'
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
कारस्तानी
Alok Saxena
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H.
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
बचपन
Anamika Singh
Loading...