Oct 5, 2016 · 1 min read

तकिया भिगोने से क्या फायदा

अब ग़मो को ढोने से भी क्या फायदा
अब तकिया भिगोने से भी क्या फायदा
*****************************
जब तो दिल दुखाता रहा हर किसी का
अब तन्हाई में रोने से भी क्या फायदा
******************************
कपिल कुमार
03/10/2016

150 Views
You may also like:
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ग़ज़ल
kamal purohit
नमन!
Shriyansh Gupta
ज़रा सामने बैठो।
Taj Mohammad
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
देखो हाथी राजा आए
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
वेदना के अमर कवि श्री बहोरन सिंह वर्मा प्रवासी*
Ravi Prakash
दिल और गुलाब
Vikas Sharma'Shivaaya'
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पापा
Nitu Sah
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
कितनी सुंदरता पहाड़ो में हैं भरी.....
Dr. Alpa H.
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
# स्त्रियां ...
Chinta netam मन
याद आते हैं।
Taj Mohammad
Loading...