Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-395💐

तक़दीर के माफ़िक तदवीर बनाते,
हम साफ़गोई से अपने कदम बढ़ाते,
रद्द-ए-सवाल मिले बे-एतिबार के संग,
ख़ुद के दिल में उनकी अंजुमन सजाते।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पर्यावरण-संरक्षण
पर्यावरण-संरक्षण
Kanchan Khanna
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
कुछ अलग लिखते हैं। ।।।
Tarang Shukla
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
जो उनसे पूछा कि हम पर यक़ीं नहीं रखते
Anis Shah
डरो नहीं, लड़ो
डरो नहीं, लड़ो
Shekhar Chandra Mitra
मोबाइल से हो रहे, अब सारे संवाद (सात दोहे)
मोबाइल से हो रहे, अब सारे संवाद (सात दोहे)
Ravi Prakash
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
रास नहीं आती ये सर्द हवाएं
कवि दीपक बवेजा
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
सौंधी सौंधी महक मेरे मिट्टी की इस बदन में घुली है
'अशांत' शेखर
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
प्रेम में पड़े हुए प्रेमी जोड़े
श्याम सिंह बिष्ट
वही दरिया के  पार  करता  है
वही दरिया के पार करता है
Anil Mishra Prahari
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
Shubham Pandey (S P)
आज की प्रस्तुति: भाग 4
आज की प्रस्तुति: भाग 4
Rajeev Dutta
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
■ आज की लघुकथा
■ आज की लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
Ek abodh balak
Ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
हे मृत्यु तैयार यदि तू आने को प्रसन्न मुख आ द्वार खुला है,
Vishal babu (vishu)
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
“ फेसबूक मित्रों की नादानियाँ ”
DrLakshman Jha Parimal
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
शहज़ादी
शहज़ादी
Satish Srijan
इबादत
इबादत
Dr.Priya Soni Khare
सनातन सँस्कृति
सनातन सँस्कृति
Bodhisatva kastooriya
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
सांच कह्यां सुख होयस्यी,सांच समद को सीप।
विमला महरिया मौज
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
फिर से
फिर से
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
Loading...