Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 4, 2022 · 1 min read

तकदीर

तकदीर ने भी कैसा खेल दिया
मुझे खेलने को
आँसु के साथ बोला मुझे
आंख-मिचौली खेलने को।

~अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 84 Views
You may also like:
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
अब हमें तुम्हारी जरूरत नही
Anamika Singh
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
*संस्मरण*
Ravi Prakash
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
विसर्जन
Saraswati Bajpai
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
बस तुम ही तुम हो।
Taj Mohammad
गलतफहमी
विजय कुमार अग्रवाल
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
* आडे तिरछे अनुप्राण *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
कर्म
Anamika Singh
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
" सहमी कविता "
DrLakshman Jha Parimal
बेमकसद जिंदगी।
Taj Mohammad
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"अरे ओ मानव"
Dr Meenu Poonia
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
अपनी ख़्वाहिशों को
Dr fauzia Naseem shad
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
Loading...