ढूंढ रहा है हर अध्यापक ,अपना वो अस्तित्व आजकल

अब कहाँ रह गए गुरु जी वाले किस्से
कहाँ रह गयी आदर सम्मान की बातें

गालियां मिलती हर मोड़ पर इन्हें
कहीं मिलती ठोकर , तो कहीं पड़ती लातें

मार्गदर्शन में उसके , चमकते लक्ष्य जिनके
आज वो कहीं खो गए हैं

अध्यापक शब्द का बदला मतलब
छात्र भी आजकल सो गए हैं

अध्यापक का होता था कभी भगवन सा सत्कार
आजकल करते छात्र उनसे , गैरों सा व्यवहार

बन जाओ मंत्री , डॉक्टर और अफसर,
या बन जाओ तहसीलदार
अध्यापक का न भूलो कभी
करना आदर सत्कार

केवल पढ़ाता नहीं है अध्यापक,
जीने की कला सिखाता
लक्ष्य की महिमा बतलाकर
आगे बढ़ने की राह दिखाता

अध्यापक ने ही आपको,
संस्कारिता का पाठ पढ़ाया
बतायी राह पर चलकर
खुद का तूने नाम चमकाया

क्यों खो गयी कदर उसकी
क्यों करता है नादानी
दिल दुखता है उसका भी
देखकर तेरी ये शैतानी

बच्चे हो तुम उसके सब
मात पिता सम व्यवहार करो
अनदेखी क्यों करते हो बातें उसकी
कुछ तो सोच विचार करो

बुरा नहीं है तुम्हारा चाहता वो
बात पते क़ी कहे वो हर पल
ढूंढ रहा है हर अध्यापक
अपना वो अस्तित्व आजकल

2 Comments · 446 Views
You may also like:
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
वार्तालाप….
Piyush Goel
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
पिता
Santoshi devi
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
कहानियां
Alok Saxena
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
पिता
Mamta Rani
मेरे पापा!
Anamika Singh
दिल मे कौन रहता है..?
N.ksahu0007@writer
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
बिछड़न [भाग २]
Anamika Singh
श्रमिक जो हूँ मैं तो...
मनोज कर्ण
ये चिड़िया
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-50💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
# पिता ...
Chinta netam मन
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
बद्दुआ।
Taj Mohammad
पिता के जैसा......नहीं देखा मैंने दुजा
Dr. Alpa H.
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
Loading...