Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2022 · 1 min read

ढाई आखर प्रेम का

यह पद संत कबीर का,
बूझ न पाया कोय,
“ढाई आखर प्रेम का,
पढ़े सो पंडित होय।”
प्रेम की भाषा सब जाने,
क्या राजा, क्या रंक,
प्रेम न कोई भेद करे,
क्या जाति, क्या रंग।
न कोई हिंदू, न कोई मुस्लिम,
न कोई मतभेद,
सबका लहू एक रंग फिर,
क्यों करे मनभेद।
अगड़ा, पिछड़ा एक रंग,
न कोई छूत, अछूत,
सब हैं एक गुरु के सेवक,
यह पक्का सबूत।
‘प्रेम’ सूत्र गुरुदेव का,
इससे वंचित न कोय,
ढाई आखर प्रेम का,
पढ़े सो पंडित होय।

मौलिक ब स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
7 Likes · 4 Comments · 403 Views
You may also like:
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
✍️आदमी ने बनाये है फ़ासले…
'अशांत' शेखर
*25 दिसंबर 1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन*
Ravi Prakash
आओ तुम
sangeeta beniwal
*तुम साँझ ढले चले आना*
Shashi kala vyas
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
तू नही तो तेरी तस्वीर तो है
Ram Krishan Rastogi
Writing Challenge- भय (Fear)
Sahityapedia
" शीशी कहो या बोतल "
Dr Meenu Poonia
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
साढ़े सोलह कदम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इक रूह ही थी बस अपनी।
Taj Mohammad
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
सावन का मौसम आया
Anamika Singh
■ ग़ज़ल / बदनाम हो गया.....!
प्रणय प्रभात
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️कैसी खुशनसीबी ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
धर्मांध भीड़ के ख़तरे
Shekhar Chandra Mitra
दिल में
Dr fauzia Naseem shad
✴️✳️हर्ज़ नहीं है मुख़्तसर मुलाकात पर✳️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीता के स्वर (2) शरीर और आत्मा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
करुणा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
लघुकथा- उम्मीद की किरण
Akib Javed
हो गयी आज तो हद यादों की
Anis Shah
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...