Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2022 · 2 min read

✍️वो “डर” है।✍️

✍️वो “डर” है।✍️
————————//
एक अनचाहा
अंजानासा
थोड़ा जाना
पहचानासा..!
मुझे वो बचपन
से ही मिलता था,
दादा दादी के
कहानियों में
नाना नानी की
जुबानियो में,
माँ के लाडली
फटकार में
पिता की
समझदारी की
डाँट में..!
गुरु के
सावधानी भरी
चेतावनी में…!

ईश्वर की श्रद्धा
के लिये भी
वो मन के कोने में
बैठा रहता था।
अल्लाह की इबादत
के लिये भी
जहेन के किसी
हिस्से में
मौजूद रहता था।।
वो रहता था साथ
इसीलिये
सारे पाठशाला के
नित्य गृहपाठ
पुरे होते थे…!
वो बुरे दोस्तों के
संगति से
बचाता था ।
वो अच्छे दोस्तों को
खोने से भी
रोकता था ।

जैसे जैसे
मैं बड़ा
होते गया
वैसे वैसे
वो मुझसे
दूर जाता रहा
वो फिर कभी कभी
अंजाने की तरह
मिलता था
कुछ समय
कुछ पल के लिये..!

जब बच्चे
बड़े हो रहे थे
तब वो कुछ
समय साथ ही रहाँ,
उनकी परवरिश में
वो बीमार पड़ जाते
तो उनकी देखभाल में,
स्कूल से लौटने से
लेकर उनके
अच्छे भविष्य का
निर्माण होने तक…
वो रहता था
कही रूह में बसा।

कभी किसी
भीड़ में
हादसों से
गुजरता हुवा
देखा मैंने उसे…

अब तो वो
व्यापार की भी
चीज़ बन गया..
ढोंगी बाबा,
साधु,संत,महंत
सब अपनी
तिजोरी के लिए
इस्तेमाल करते है।
राजसत्ता के लोभी
अपने खुर्ची और
प्रान,प्रतिष्ठा के लिए
भी मंच पर से
जनता को इसकी
प्रचिती कराते है।।
अब वो
सच बनकर
झूठ की
बुनियाद पे
चैनलोसे रोज
प्रसारित होता है
और दहलाते रहता है
देश की चारो
दिशाओं को…!
इतिहास की
बर्बरता से
वर्तमान के युद्ध तक
ये इंसान को
भविष्य के लिए
आगाह करता है..!

एक अनचाहा
अंजानासा
थोड़ा जाना
पहचानासा..!
जो बसा है
दिल के अंदर
भूतकाल से भविष्य तक
ये साथ रहेगा
हर वक़्त..! हर पल..!!
इसका होना भी जरुरी…
इसका ना होना भी मज़बूरी…
वो “डर” है।
————————————-//
✍️”अशांत”शेखर✍️
08/06/2022

2 Likes · 8 Comments · 158 Views
You may also like:
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
अपनी हर श्वास को
Dr fauzia Naseem shad
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
काश मेरा बचपन फिर आता
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बंदर भैया
Buddha Prakash
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
Loading...