Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

डर सबको लगता है

डर सबको लगता है, पर डर कर बैठ न जाना
बढ़ना होगा मंजिल पर, हिम्मत से कदम बढ़ाना
आने वाले संकट के डर से, हार कर बैठ न जाना
हिम्मत और हौसले से, संकट को दूर भगाना
डर सबको लगता है, पर डर कर बैठ न जाना

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 194 Views
You may also like:
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
प्रीतम दोहावली
आर.एस. 'प्रीतम'
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
हे प्रभु श्री राम...
Taj Mohammad
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
कोई रास्ता मुझे
Dr fauzia Naseem shad
गुणगान क्यों
spshukla09179
✍️बगावत थी उसकी✍️
'अशांत' शेखर
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
एक शहीद की महबूबा
ओनिका सेतिया 'अनु '
और मैं .....
AJAY PRASAD
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम गर्म चाय तंदूरी हो
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
शाम से ही तेरी याद सताने लगती है
Ram Krishan Rastogi
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
कोई कासिद।
Taj Mohammad
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
ज़िंदगी का हीरो
AMRESH KUMAR VERMA
बादल का रौद्र रूप
ओनिका सेतिया 'अनु '
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
मौत।
Taj Mohammad
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये खुशी
Anamika Singh
Loading...