Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#29 Trending Author
Apr 17, 2022 · 1 min read

डरिये, मगर किनसे….?

डरिये, मगर किनसे?
~~°~~°~~°
डरिये हर वो बुरे कर्मों से ,
जो सदा गर्त में ले जाते हैं।
डरना भी अनुशासन का ही प्रतीक है।

हर निकृष्ट कामों से डरिये ,
यदि आप छात्र है डरिये ,
अपने माता-पिता और गुरुजनों से ,
तो बुरी आदतों से बच पायेंगे।

यदि आप सच्चे नागरिक हैं देश के ,
तो डरिये पुलिस और कानून व्यवस्था से।
तो आप पथभ्रष्ट होने से बच जायेंगे।

यदि आप गृहस्थ है तो डरिये ,
बदनियती और गलतफहमियों से ।
तो आप अपने घर को टूटने से बचा पायेंगे।

यदि आप गरीब और मेहनतकश मजदूर हैं ,
तो डरिये आलस्य और निक्कमेपन से ।
आप भुखमरी और बेसहारा होने से बच जायेंगे ।

यदि आप अमीर और महलों में रहने वाले हैं ,
तो डरिये मन के भटकाव और बुरे व्यसनों से ,
आप पतन के मार्ग पर जाने से बच जायेंगे ।

यदि आप धर्मपरायण हैं ,
तो डरिये हर उस मुखौटे पहने नास्तिकों से ,
जो आपकी संस्कृति को नष्ट करने में ,
दुश्मनों का साथ देने को मजबूर हैं ।
तो आप अपने स्वाभिमान को नष्ट होने से बचा पायेंगे।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १७ /०४ /२०२२
वैशाख ,कृष्ण पक्ष,प्रतिपदा ,रविवार
विक्रम संवत २०७९
मोबाइल न. – 8757227201

2 Likes · 196 Views
You may also like:
रोमांस है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पूरे किसी मेयार पर उतरे नहीं कभी ।
Dr fauzia Naseem shad
हम बस देखते रहे।
Taj Mohammad
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
✍️✍️बूद✍️✍️
'अशांत' शेखर
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
मालूम था।
Taj Mohammad
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
गलतफहमी
विजय कुमार अग्रवाल
✍️कबीरा बोल...✍️
'अशांत' शेखर
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
मुझसे तो होगा नहीं अब
gurudeenverma198
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
'विजय दिवस'
Godambari Negi
# अव्यक्त ....
Chinta netam " मन "
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
✍️हम सब है भाई भाई✍️
'अशांत' शेखर
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
दिल में उतरते हैं।
Taj Mohammad
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
कविता
Mahendra Narayan
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
'अशांत' शेखर
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
I Can Cut All The Strings Attached
Manisha Manjari
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
Loading...