Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Sep 2022 · 1 min read

ठोकरों ने समझाया

जिदंगी की ठोकरों ने हमें यह समझाया,
देख अनामिका इतनी जल्दी,
नही करते है हर किसी पर विश्वास।
जैसे तुम दिल खोलकर ,
कर लेती हो हर किसी से बात।
ऐसे नही किया करते है,
हर किसी से अपने मन की बात।
आजकल हर इंसान पहने हुए है,
दोहरे चरित्र का नकाब।
सोचो ,समझों और तुम परखो,
फिर करो उससे अपने मन की बात।
जरूरी नही जो कड़वा बोले,
वो इंसान हो खराब।
सत्य हमेशा होता है कड़वा,
यह बोल गए हमारे बड़े-बुजुर्ग
लगाकर जिदंगी के अनुभव से
यह हिसाब-किताब।
आजकल शराफत का नकाब पहने,
मीठा बोलने वाले लोग ही
करते है ज्यादा विश्वासघात।
अनामिका

8 Likes · 10 Comments · 167 Views
You may also like:
✍️मेरा प्रिय भारत सबसे न्यारा✍️
'अशांत' शेखर
उफ़ यह कपटी बंदर
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर इंसा हार जाता है अपने इश्क को भुलानें में।
Taj Mohammad
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
'राम-राज'
पंकज कुमार कर्ण
!! सांसें थमी सी !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
ग़ज़ल
Rashmi Sanjay
✍️खंज़र चलाते है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
दुनियादारी में
surenderpal vaidya
बचपन की यादें
Anamika Singh
गुरु कृपा
Buddha Prakash
दीपावली
Dr Meenu Poonia
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
* रौशनी उसकी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दिल किसी से अगर लगायेगा
Dr fauzia Naseem shad
*महाकाल चालीसा*
Nishant prakhar
मायूस फनकार
Shekhar Chandra Mitra
माँ +माँ = मामा
Mahendra Rai
हम पत्थर है
Umender kumar
धर्मपथ : दिसंबर 2021
Ravi Prakash
नवगीत
Mahendra Narayan
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-13💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दूब
Shiva Awasthi
उम्मीद
Harshvardhan "आवारा"
चामर छंद "मुरलीधर छवि"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
लड़ाकू विमान और बेटियां
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
उन शहीदों की कहानी
gurudeenverma198
Loading...