Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सो गया है आदमी

जानवर भी है परेशाँ आदमी की फितरतों से,
कौन जाने जानवर ही हो गया है आदमी!

रास्ते पर चल रहा है मखमली चेहरा लिए वह,
खुद ही खुद का पैरहन अब हो गया है आदमी!

ये शोहरतों का पेड़ उगाये बैठा है माथे पर,
इंसानियत की लाश में अब खो गया है आदमी!

रास्ते पर कल सुबह मारा गया एक राहगीर,
सेल्फियों के साथ, फोटो हो गया है आदमी!

खुदा जाने किस तरह से गुज़र होगा इस शहर में,
कान में ढक्कन लगा के सो गया है आदमी!

6 Likes · 5 Comments · 65 Views
You may also like:
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
बुआ आई
राजेश 'ललित'
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
चिड़िया रानी
Buddha Prakash
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
अब ज़िन्दगी ना हंसती है।
Taj Mohammad
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
मेघो से प्रार्थना
Ram Krishan Rastogi
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Deepali Kalra
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
ना मायूस हो खुदा से।
Taj Mohammad
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
जरी ही...!
"अशांत" शेखर
कौन है
Rakesh Pathak Kathara
आप कौन है
Sandeep Albela
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
सौ प्रतिशत
Dr Archana Gupta
💐प्रेम की राह पर-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
Loading...