Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2022 · 1 min read

दो पल मोहब्बत


पूनम की चांँदनी, खिलती रात की रानी,
करती यूंँ मदहोश, ठहर जा ऐ जवानी,
चंद लम्हें कर लूंँ मोहब्बत, इस जनम,
न जाने वक्त, बेवक्त गुजर जाए रवानी।

ऐ सपनों की रानी, तू यूंँ न मचल,
दे जरा संभलने, कहीं जाऊंँ न फिसल,
करने दे, दो पल मोहब्बत, सपने में सही, सपना टूटकर, बिखर जाए न ये पल।
***************
# रवानी = शीघ्रता से, धाराप्रवाह

मौलिक व स्वरचित
©® श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

Language: Hindi
Tag: शेर
7 Likes · 8 Comments · 282 Views
You may also like:
किताब
Seema 'Tu hai na'
बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना
विनोद सिल्ला
किस क़दर।
Taj Mohammad
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
हिरण
Buddha Prakash
हकीकत से रूबरू
कवि दीपक बवेजा
आखिरी स्टेशन (लघुकथा)
Ravi Prakash
Think
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता
Neha Sharma
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
घडी़ की टिक-टिक⏱️⏱️
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
ये कलियाँ हसीन,ये चेहरे सुन्दर
gurudeenverma198
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आंखों के दपर्ण में
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अंधभक्ति की पराकाष्ठा
Shekhar Chandra Mitra
246. "हमराही मेरे"
MSW Sunil SainiCENA
दीपोत्सव की शुभकामनाएं
Saraswati Bajpai
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
नहीं हंसी का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रेयसी
Dr. Sunita Singh
दुःस्वप्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
है आया पन्द्रह अगस्त है।।
पाण्डेय चिदानन्द
हास्य-व्यंग्य
Sadanand Kumar
खूबसूरत है तेरा
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
हालात
Surabhi bharati
$दोहे- सुबह की सैर पर
आर.एस. 'प्रीतम'
जीवन में खुश कैसे रहें
Dr fauzia Naseem shad
✍️चरित्र वो है…!✍️
'अशांत' शेखर
मेरे पिता से बेहतर कोई नहीं
Manu Vashistha
है सुकूँ से भरा एक घर ज़िन्दगी
Dr Archana Gupta
Loading...