Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2022 · 1 min read

ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)

ठनक रहे
माथे गर्मीले ।

भीतर तपता,
बाहर तपता ।
मिट्टी तपती,
पत्थर तपता ।

पत्ते हरे
हुए सब पीले ।

बिछिया तपती,
बिंदिया तपती ।
आँगन तपता,
कुटिया तपती ।

गरम हुए
घूँघट शर्मीले ।

आँखें तपतीं,
पाँखें तपतीं ।
जड़ें गर्म हैं,
शाखें तपतीं ।

भाप उड़ाते
स्रोत्र सजीले ।

ठनक रहे
माथे गर्मीले ।
000
—- ईश्वर दयाल गोस्वामी
छिरारी (रहली),सागर
मध्यप्रदेश ।

Language: Hindi
Tag: गीत
7 Likes · 8 Comments · 194 Views
You may also like:
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
अशांत मन
Mahender Singh Hans
हिटलर की वापसी
Shekhar Chandra Mitra
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
🌸🌼उनकी किस सादगी पर हम मचलते रहे🌼🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चित्रगुप्त पूजन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
मदार चौक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
रह गया मैं सिर्फ " लास्ट बेंच "
Rohit yadav
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरा दिल गया
Swami Ganganiya
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
मुझसे तो होगा नहीं अब
gurudeenverma198
शिक्षित बने ।
Buddha Prakash
■ "पराई आस" पर सदैव भारी "आत्म-विश्वास"
*प्रणय प्रभात*
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
खुशियों से भी चेहरे नम होते है।
Taj Mohammad
देश के लिए है अब जीना मरना
Dr Archana Gupta
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
ऋग्वेद में सोमरस : एक अध्ययन
Ravi Prakash
ख्वाब हो गए वो दिन
shabina. Naaz
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
✍️ये मेरा भी वतन✍️
'अशांत' शेखर
वतन की बात
पाण्डेय चिदानन्द
सोचा था जिसको मैंने
Dr fauzia Naseem shad
पानी की कहानी, मेरी जुबानी
Anamika Singh
सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे
Er.Navaneet R Shandily
कर्म-पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है ।...
Dr.sima
Loading...