Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 6, 2017 · 1 min read

ठगें सभी रिश्ते उसे

ठगें सभी रिश्ते उसे, ठगे उसे परिवार l
आज अकेले रो पड़ी, होकर वो लाचार ll

‘रीता’ वहांँ न जाइए, मिले जहांँ अपमान l
हर धन से होता बड़ा, है अपना सम्मान ll

बातें उनकी प्रिय लगें, उर में उनका वास l
कह दूंँ कैसे हे सखी, यह सुंदर अहसास ll

अंधभक्त बनना नहीं,कभी किसी का यार l
चल पड़ता इससे किसी, बाबा का व्यापार ll
कपटी, दंभी, लालची ,अपना करें बखान l
बातों से इनकी लगे, ये है बड़े महान ll

जिस घर में पूजें सभी, गौरी – पुत्र गणेश l
वास वहांँ आकर करें,ब्रह्मा विष्णु महेश ll

रीता यादव

2 Likes · 2 Comments · 255 Views
You may also like:
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Dr.Priya Soni Khare
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबू जी
Anoop Sonsi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
Loading...