Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

ट्रेन दुर्घटना

देखो हमारे ख्वाब कैसे बिखर गए,
हाथ मै टिकट था मगर हम घर नही गए ।

सफर शुरू किया था की घर जायेंगे,
ये किसने सोचा था की मर जायेंगे ।

रो रहा था बहुत परेशान था वह सबसे पूछ रहा था,
एक बाप लाशों के ढेर में अपना बेटा ढूँढ रहा था।

Language: Hindi
1 Like · 61 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
वेदना जब विरह की...
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
मोहब्बत के वादे
मोहब्बत के वादे
Umender kumar
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
मुहब्बत
मुहब्बत
बादल & बारिश
अब फकत तेरा सहारा न सहारा कोई।
अब फकत तेरा सहारा न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#विषय --रक्षा बंधन
#विषय --रक्षा बंधन
rekha mohan
अच्छा लगता है
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
मुझसा प्यार नहीं मिलेगा
gurudeenverma198
किए जा सितमगर सितम मगर....
किए जा सितमगर सितम मगर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*रिटायर होने के अगले दिन* (अतुकांत हास्य कविता)
*रिटायर होने के अगले दिन* (अतुकांत हास्य कविता)
Ravi Prakash
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
न्याय तुला और इक्कीसवीं सदी
आशा शैली
वफा की मोहब्बत।
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
हे! ज्ञानदायनी
हे! ज्ञानदायनी
Satish Srijan
जगत का हिस्सा
जगत का हिस्सा
Harish Chandra Pande
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
एक अच्छाई उसी तरह बुराई को मिटा
shabina. Naaz
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
*मन के धागे बुने तो नहीं है*
Buddha Prakash
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
7…अमृत ध्वनि छन्द
7…अमृत ध्वनि छन्द
Rambali Mishra
श्रद्धा और सबुरी ....,
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
नारी क्या है
नारी क्या है
Ram Krishan Rastogi
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
स्वच्छता
स्वच्छता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
It is necessary to explore to learn from experience😍
It is necessary to explore to learn from experience😍
Sakshi Tripathi
■ एक प्रेरणा...
■ एक प्रेरणा...
*Author प्रणय प्रभात*
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा
मेरी आंखों का इंतिज़ार रहा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...