Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Sep 2016 · 3 min read

टॉलेमी के सच्चे वंशज

#टॉलेमी_के_सच्चे_वंशज

टूटते तारों के विषय में वैज्ञानिक कारण जो भी हो उसमें हमारा कोई इंटरेस्ट नहीं है उससे हमें कोई लेना देना नहीं,, साहब, हमारी मुर्गी की तो तीन टाँग है और तीन तब तक रहेगी जब तक किसी शाम हम एक टांग को बतौर चखना नहीं डकार जाते हैं ,,,

टूटते तारे को लेकर दुनिया भर में तमाम तरह की भ्रांतियां, अवधारणाएं और कपोल कल्पित कहानियाँ प्रचलित हैं, किसी देश में इसे शुभ तो कहीं इसे अशुभ माना जाता है ,,, मतबल जितनी मुँह उतनी बातें नहीं ,,,, जितने देश उतनी बातें ,,,

जनाब हम ठहरे भारतीय वो भी ठेठ वाले तो कहानी किसी भी विषय की हो अव्वल तो अपनी ही होगी, क्योंकि हमें तो बचपन में ही स्वास्थ्य संबंधी टीकों(वैक्सीन) के साथ एक टीका जुगाड़ का(अपना काम किसी और से करवाने के हुनर का) लगवा दिया जाता है ..
और जिंदगी भर हम अपने दोस्त यार नाते रिश्तेदारों से इस जुगाड़ नामक मन्त्र से अपने wish पुरे करते रहते हैं और यदि कभी इनके बूते से बाहर का कोई काम रहा तो एक दूसरा जुगाड़ भी हमारे पास 24 X 7 उपलब्ध है, जिन्हें भगवान् के नाम से जाना जाता है जुगाड़ू भक्तों द्वारा इन्हें रिश्वत देकर अपना काम निकालने की परंपरा आदिकालीन रही है ,,,(ये जुगाड़ काम भी करता है मैंने एक बार क्रिकेट मैच के दौरान इंडिया को हार से बचाने के लिए आजमाया था लेकिन कब करेगा कब नहीं इसका दावा मैं क्या कोई भी नहीं कर सकता),,, और यदि आपके पास रिश्वत के लिए भी कुछ नहीं है तो निराश मत होईये एक और जुगाड़ है, #टूटते_तारे हाँ ये बात और है कि इसमें कई रात जागना पड़ता है टकटकी लगाए आसमान को रात भर ताकना भी पड़ता है और एक कुशल बल्लेबाज़ की तरह टूटते तारे को देख आँख बंद कर टाइमिंग से WISH(मन्नत) का सिक्सर लगाना पड़ता है वो भी बावंसर पर क्योंकि ये गेंद कभी फुलटॉस या ओवर पिच नहीं मिलती ,,,

और यह #टूटते_तारे नामक जुगाड़ हमें प्राप्त हुआ है ग्रीक खगोलविद टोलेमी से जिन्होंने दूसरी सदी में एक अनोखा सिद्धांत पेश किया था कि ,,, आसमान में अपनी अलग दुनिया में विराजे देवता कभी-कभी उत्सुकता या फिर बोरियत के चलते हम मनुष्यों के संसार यानी पृथ्वी पर निगाह डाल देते हैं। इस दौरान दोनों लोकों के बीच का झरोखा कुछ पल के लिए खुल जाने की वजह से वहां के कुछ तारे गिरकर धरती की ओर आने लगते हैं। चूंकि यही वह वक्त होता है, जब देवताओं की नजरें हमारे लोक पर और हम पर इनायत होती हैं, सो इस क्षण में मांगी जाने वाली Wish(मन्नत) की उन तक पहुंचने और पूरी होने की संभावना बढ़ जाती है ,,

आज इक्कीसवीं सदी में इस सिद्धांत पर किस देश के लोग कितना ऐतबार करते हैं नहीं मालूम लेकिन दावे के साथ यह कह सकता हूँ सबसे ज्यादा ऐतबार हम भारतीय ही करते हैं वजह आपको भी मालूम है हुज़ूर,,, वही अपना काम किसी और से कराने का विरासत में प्राप्त नैसर्गिक गुण ,,

लेकिन Wish(मन्नत) मांगने और उसमें शत प्रतिशत सफलता प्राप्त करने का रिकार्ड तो हमारे बॉलीवुड वालों का है ,,, भले ही फिल्म असफल हो गयी हो लेकिन फिल्म में टूटते तारे को देख कर मांगी गयी मन्नत किसी भी फिल्म में असफल नहीं हुई ,,, सचमुच इस लिहाज से कहें तो हमारे बॉलीवुड वाले ही टॉलेमी के सच्चे वंशज हैं ..!!!

#जितेन्द्र_जीत

Language: Hindi
434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to get all the exciting updates about our writing competitions, latest published books, author interviews and much more, directly on your phone.
You may also like:
तुम जो मिल गई हो।
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
रामनवमी
रामनवमी
Ram Krishan Rastogi
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किसी को इतना मत करीब आने दो
किसी को इतना मत करीब आने दो
कवि दीपक बवेजा
Human Brain
Human Brain
Buddha Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वो मुझे
वो मुझे
Dr fauzia Naseem shad
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
जीवन में कभी भी संत रूप में आए व्यक्ति का अनादर मत करें, क्य
Sanjay ' शून्य'
लड़ते रहो
लड़ते रहो
Vivek Pandey
'अ' अनार से
'अ' अनार से
Dr. Kishan tandon kranti
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
🌹🙏प्रेमी प्रेमिकाओं के लिए समर्पित🙏 🌹
कृष्णकांत गुर्जर
करगिल विजय दिवस
करगिल विजय दिवस
Neeraj Agarwal
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
आंखों में
आंखों में
Surinder blackpen
भेड़ चाल में फंसी माँ
भेड़ चाल में फंसी माँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कश्मीर में चल रहे जवानों और आतंकीयो के बिच मुठभेड़
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
देर
देर
पीयूष धामी
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
गौभक्त और संकट से गुजरते गाय–बैल / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
प्रवाह में रहो
प्रवाह में रहो
Rashmi Sanjay
अज्ञात के प्रति-1
अज्ञात के प्रति-1
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
प्रकृति पर्यावरण बचाना, नैतिक जिम्मेदारी है
प्रकृति पर्यावरण बचाना, नैतिक जिम्मेदारी है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हँसी हम सजाएँ
हँसी हम सजाएँ
Dr. Sunita Singh
मुक्तक
मुक्तक
Ranjeet Kumar
Loading...