Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author
Aug 17, 2021 · 1 min read

टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी

टेढ़ी-मेढ़ी मुड़ी हुई,
रस में भिगोई कुरकुरी,

कितनी अदभुत है मिठाई,
देख कर मुंँह में पानी आए,

तरह-तरह की जलेबी बनती,
मुंँह मीठा कर खुशियांँ घर आती,

रबड़ी संग लाजवाब हो जाती,
दही के संग बढ़िया स्वाद बनाती,

मांँ के हाथों की जलेबी,
रस टपक जाए खाओ अलबेली,

सभी के मन में बसती है जलेबी,
टेढ़ी-मेढ़ी रहस्य बनी है जलेबी ।

??
* बुद्ध प्रकाश,
** मौदहा हमीरपुर।

6 Likes · 243 Views
You may also like:
✍️अच्छे करम मांगता हूँ✍️
'अशांत' शेखर
बेपर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
जल जीवन - जल प्रलय
Rj Anand Prajapati
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
चिड़ियाँ
Anamika Singh
मदहोश रहे सदा।
Taj Mohammad
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
यथार्था,,, दर्पणता,,, सरलता।
Taj Mohammad
'धरती माँ'
Godambari Negi
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️एक ख़ुर्शीद आया✍️
'अशांत' शेखर
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
पढ़े लिखे खाली घूमे,अनपढ़ करे राज (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हमारे पापा
Anamika Singh
"वफादार शेरू"
Godambari Negi
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
कलम कि दर्द
Hareram कुमार प्रीतम
"महेनत की रोटी"
Dr.Alpa Amin
पसन्द
Seema Tuhaina
बेटी....
Chandra Prakash Patel
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️आव्हान✍️
'अशांत' शेखर
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...