Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 5, 2022 · 1 min read

टूटे बहुत है हम

कभी भूखे रहे
तो क़भी सूखे रहे है हम
क़भी रूठे रहे
तो क़भी टूटे रहे है हम

कभी किसी को याद करके
तडपे बहुत है हम
हां तडपे बहुत है, क़भी किसी को रोता देखके
पर सादगी भरी “मुस्कान” पे
मरते बहुत है हम

क़भी बात न हो तो
जलते बहुत है हम
हां जलते बहुत है, रेगिस्तान की तरह
“वर्षाऋतु” का इंतजार करते बहुत है हम

कहना तो चाहते है बहुत कुछ
पर कहने से डरते बहुत है हम
हां डरते बहुत है , खोने से उनको
उनको ! पाना भी चाहते बहुत है
पर खामोश रहते बहुत है हम

“माना” कि वो मेरी है
बस! इन्ही कल्पनाओं को स्मरण करके
हँसते बहुत है हम
चूँकि छात्र ! “गणित” के रहे है हम
✍️ D.k math

1 Like · 2 Comments · 119 Views
You may also like:
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
💐💐 सूत्रधार 💐💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मित्र
लक्ष्मी सिंह
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
रूबरू होकर जमाने से .....
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
ख्वाब
Harshvardhan "आवारा"
मां
Anjana Jain
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
अराजकता बंद करो ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
'अशांत' शेखर
✍️आत्मपरीक्षण✍️
'अशांत' शेखर
अगर नशा सिर्फ शराब में
Nitu Sah
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इंतजार
Anamika Singh
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
जिन्दगी।
Taj Mohammad
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
पुस्तक समीक्षा -'जन्मदिन'
Rashmi Sanjay
कविता: देश की गंदगी
Deepak Kohli
खुश रहना
dks.lhp
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
✍️हे शहीद भगतसिंग...!✍️
'अशांत' शेखर
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
Loading...