Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2021 · 2 min read

#कटी-पतंग

कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

कमजोर माँझा था या झोंकाएँ तेज थी।
जहाँ पे अटक गई मैं वो पथरीली रेत थी।
तेज धुप था और गहरी तपन थी।
कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

भरनी थी ऊँची उडानें।
बुलन्दीयों को छूना था।
आसमान को लपकने की थी ख्वाहिश,
पुरे फलक में उडना था।
हवाओं में उडते-उडते,
ख्वाहिशों को जीना था।
मरने का डर नहीं था।
सर पे बाँध के निकली कफन थी।
कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

बेसुध निढाल पडी थी।
लहुलुहान हर जगह से मेरी खाल पडी थी।
थक कर चूर थी,
रौनकें बेनूर थी।
दर्द से छटपटा रही थी,
कराह रही थी।
फिर भी गहराई से सफर का आकलन कर थी।
सपने के टूटने की टीस थी,
या मंजिल तक न पहुंच पाने की खीझ थी।
आत्मविश्वास डिगा नहीं था।
ये वर्षोंं के तालिम की जतन थी।
कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

ताजा था जख्म,गहरे थे घाव।
असहनीय पीडा और द्रवित थे भाव।
असहाय और लाचार,
समाज में मेरा था कुप्रचार।
गिरते-पडते,धीरे-धीरे
सम्भल रही हूँ।
दर्द के गांठ को पिघाल रही हूँ।
अब फिर से जलती लौ में
खुद को जलाना है।
तन को आग बनाना है।
फिर से ख्वाबों को जगाना है।
ख्वाबों के वृक्ष मे पहले से ही,
मैं लिपटी भुजंग थी।
कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

जागी ललक है,छूनी फलक है।
मन मे है ठानी,अभी है जवानी।
सफल कोशिश फिर से है करना,
सपनों में है जीना-मरना।
आग हूँ,आग थी।
उडता धुआँ तन से,
क्युँकि मै अब भी अग्नि प्रचण्ड थी।
कटी-पतंग थी।
उडते-उडते गिरीं जमीन पे।
शायद हवाएँ दबंग थींं।।

द्वारा कवि:-Nagendra Nath Mahto.
17/June/2021
मौलिक व स्वरचित रचना।
Bollywood में बतौर गायक,संगीतकार व गीतकार के रूप में कार्यरत।
Youtube:-n n mahto official
All copyright:- Nagendra Nath Mahto.

3 Likes · 4 Comments · 442 Views
You may also like:
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिया
Anamika Singh
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
मैं ही बेगूसराय
Varun Singh Gautam
" ठंडी ठंडी ठंडाई "
Dr Meenu Poonia
श्रावण गीत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरा साया
Anamika Singh
प्यार का चिराग
Anamika Singh
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
✍️सोया हुवा शेर✍️
"अशांत" शेखर
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
सियासी क़ैदी
Shekhar Chandra Mitra
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
"अशांत" शेखर
चांद
Annu Gurjar
✍️मुमकिन था..!✍️
"अशांत" शेखर
मेरी प्यारी प्यारी बहिना
gurudeenverma198
दिल की सुनाएं आप जऱा लौट आइए।
सत्य कुमार प्रेमी
ये लखनऊ है मेरी जान।
Taj Mohammad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
तुम भी न पा सके
Dr fauzia Naseem shad
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
*योग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
बरसात
Ashwani Kumar Jaiswal
Loading...