Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Sep 2022 · 1 min read

टूटा हुआ दिल

जंगल में आग लगी है,
लगता है किसी का दिल
आज फिर जोर से टूटा है ।
प्यार जो किसी के सीने में,
दबा हुआ था अंगार बनकर
आज लगता है वह,
ज्वाला बनकर फूटा है।
जलाने पर है वो सब कुछ अमादा,
लगता है किसी ने बड़ी बेदर्दी से
आज उसके दिल को रौंदा है।
खाया होगा कोई गहरी चोट उसने,
इसीलिए यह अंगार इतनी जोर से फूटा है।
शायद किसी ने उसे प्यार में दगा देकर,
बड़ी बुरी तरह से उसे लुटा है।

8 Likes · 15 Comments · 185 Views
You may also like:
■ धिक्कार है...
*Author प्रणय प्रभात*
तिरंगा
Dr Archana Gupta
रेत   का   घर 
Alok Saxena
विजय पर्व है दशहरा
जगदीश लववंशी
कलम की नश्तर
Shekhar Chandra Mitra
जबकि तुम अक्सर
gurudeenverma198
छुपकर
Dr.sima
गुरु नानक का जन्मदिन
सत्य भूषण शर्मा
Writing Challenge- प्रेम (Love)
Sahityapedia
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
#मेरी दोस्त खास है
Seema 'Tu hai na'
बिस्तर की सिलवटों में
Kaur Surinder
मोबाईल की लत
शांतिलाल सोनी
बेचैन कागज
Dr Meenu Poonia
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
जय श्री महाकाल सबको, उज्जैयिनी में आमंत्रण है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*कृपा कर दो मेरे सरकार (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
गुल्लक
Buddha Prakash
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta ( bloger) Gupta
तुम बूंद बंदू बरसना
Saraswati Bajpai
हमसफ़र
N.ksahu0007@writer
भावना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
दो लफ़्ज़ मोहब्बत के
Dr fauzia Naseem shad
तुम हमें अब आधे अधूरे से लगते हो।
Taj Mohammad
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
ए'तिराफ़-ए-'अहद-ए-वफ़ा
Shyam Sundar Subramanian
मायके की धूप रे
Rashmi Sanjay
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
Loading...