Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2022 · 1 min read

टूटता तारा

आसमान से एक तारा टूटकर,
जमीं पर गिड़ रहा था।
आसमान से बिछड़ने के गम में
वह रोते हुए जमीं पर आ रहा था।

आज हो रही थी उसकी शक्ति विलीन
इसलिए वह मध्यम-मध्यम सा लग रहा था।
धरती के तरफ आने के कारण
वह हमें अच्छा दिख रहा था

पर खो रहा था आज उसका
अस्तित्व,
इसलिए वह मन ही मन
दुख से भरा था।
आज हमेशा-हमेशा के लिए
वह मरने जो जा रहा था।

पर हम सब मुर्ख उससे देखकर
इच्छा पूर्ति की मिन्नत मांग रहे थे।
धरती पर आते देख ताली बजा रहे थे।
जो आज खुद मिट रहा था।
उससे हम खुशियाँ मांग रहे थे।

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 2 Comments · 792 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
त्याग करने वाला
त्याग करने वाला
Buddha Prakash
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
✍️सच और झूठ
✍️सच और झूठ
'अशांत' शेखर
बस तेरे लिए है
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
■ आज का सवाल...
■ आज का सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
13-छन्न पकैया छन्न पकैया
Ajay Kumar Vimal
तुम याद आए
तुम याद आए
Rashmi Sanjay
एक पल में जीना सीख ले बंदे
एक पल में जीना सीख ले बंदे
Dr.sima
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Writing Challenge- दरवाजा (Door)
Sahityapedia
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
माता शबरी
माता शबरी
SHAILESH MOHAN
शहीदों का यशगान
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
*लेडीज मच्छर कान के जो, पास में गाने लगी(हास्य मुक्तक)*
Ravi Prakash
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मुकम्मल जहां
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu hai na'
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
*पशु से भिन्न दिखने वाला .... !*
नेताम आर सी
आपको जीवन में जो कुछ भी मिले उसे सहर्ष स्वीकार करते हुए उसका
आपको जीवन में जो कुछ भी मिले उसे सहर्ष स्वीकार करते हुए उसका
तरुण सिंह पवार
Maine anshan jari rakha
Maine anshan jari rakha
Sakshi Tripathi
तुझे भूल जो मैं जाऊं
तुझे भूल जो मैं जाऊं
Dr fauzia Naseem shad
"तेरे बिन "
Rajkumar Bhatt
दिखाकर ताकत रुपयों की
दिखाकर ताकत रुपयों की
gurudeenverma198
हिन्द की हस्ती को
हिन्द की हस्ती को
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हरि घर होय बसेरा
हरि घर होय बसेरा
Satish Srijan
क्या ठहर जाना ठीक है
क्या ठहर जाना ठीक है
कवि दीपक बवेजा
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
जमाना गुजर गया उनसे दूर होकर,
संजय संजू
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
जो गिर गिर कर उठ जाते है, जो मुश्किल से न घबराते है,
अनूप अम्बर
बंधन
बंधन
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
Loading...