Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#2 Trending Author
May 9, 2022 · 1 min read

टूटता तारा

आसमान से एक तारा टूटकर,
जमीं पर गिड़ रहा था।
आसमान से बिछड़ने के गम में
वह रोते हुए जमीं पर आ रहा था।

आज हो रही थी उसकी शक्ति विलीन
इसलिए वह मध्यम-मध्यम सा लग रहा था।
धरती के तरफ आने के कारण
वह हमें अच्छा दिख रहा था

पर खो रहा था आज उसका
अस्तित्व,
इसलिए वह मन ही मन
दुख से भरा था।
आज हमेशा-हमेशा के लिए
वह मरने जो जा रहा था।

पर हम सब मुर्ख उससे देखकर
इच्छा पूर्ति की मिन्नत मांग रहे थे।
धरती पर आते देख ताली बजा रहे थे।
जो आज खुद मिट रहा था।
उससे हम खुशियाँ मांग रहे थे।

~अनामिका

3 Likes · 2 Comments · 100 Views
You may also like:
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
हवस
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बाल वीर हनुमान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
भारत
Vijaykumar Gundal
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरा सुकूं चैन ले गए।
Taj Mohammad
मां
Anjana Jain
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️डर काहे का..!✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
kamal purohit
प्यार
Satish Arya 6800
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बचपन की यादें
Anamika Singh
Rainbow in the sky 🌈
Buddha Prakash
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं इनकार में हूं
शिव प्रताप लोधी
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
"साहित्यकार भी गुमनाम होता है"
Ajit Kumar "Karn"
केंचुआ
Buddha Prakash
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
Loading...