Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 25, 2021 · 1 min read

झूला सजा दो

मांँ मेरी तू झूला लगा दो,
उसमें बैठ मैं झूलूंँगी,

मांँ मैं हूंँ तेरी गुड़िया रानी,
तू मुझको झूला झूलाएगी,

बैठ झूले में हवा में खेलूँ,
सावन भादो के बाहर में,

घर के आंँगन में झूला सजा दो,
हृदय में प्रेम जगा लो मांँ,

सखियों के संग झूलूंँगी मैं मांँ,
तुझको भी सखी बना लूंँगी,

बचपन की यादें हृदय में बसी है,
झूला झूलने की अब मेरी है बारी।

#बुद्ध प्रकाश;
**मौदहा हमीरपुर।

7 Likes · 4 Comments · 272 Views
You may also like:
पिता
लक्ष्मी सिंह
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Deepali Kalra
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
विजय कुमार 'विजय'
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
# पिता ...
Chinta netam " मन "
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
Loading...