Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

झूठ के बीच पल न पाये हम

झूठ के बीच पल न पाये हम
साथ दुनिया के’ चल न पाये हम

जी रहे लोग जिंदगी दुहरी
रंग में उनके’ ढल न पाये हम

प्रेम बंधन में बँध गए ऐसे
जिन्दगी भर निकल न पाये हम

लोभ की हर तरफ जमी काई
फिर भी देखो फिसल न पाये हम

दर्द तो हर कहीं दिखे हमको
बन के’ आँसू पिघल न पाये हम

149 Views
You may also like:
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H. Amin
कभी कभी।
Taj Mohammad
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
“ कोरोना ”
DESH RAJ
मातृभाषा हिंदी
AMRESH KUMAR VERMA
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
Anamika Singh
नारी को सदा राखिए संग
Ram Krishan Rastogi
कलम
AMRESH KUMAR VERMA
अंदाज़।
Taj Mohammad
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
पापा मेरे पापा ॥
सुनीता महेन्द्रू
कुछ दिन की है बात
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवन मेला
DESH RAJ
🌷मनोरथ🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
माँ बाप का बटवारा
Ram Krishan Rastogi
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
झूला सजा दो
Buddha Prakash
मेरे पिता है प्यारे पिता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...