Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

झूठ का आफ़ताब भी है बहुत!

झूठ का आफ़ताब भी है बहुत।
सच मगर लाजवाब भी है बहुत।

आ मिटा दूँ गमे रवायत सब,
मेरे दिल में शराब भी है बहुत।

आसमां छूने की तमन्ना है,
पर जमाना ख़राब भी है बहुत।

मैं न पहचान पाया की सबके,
चेहरे में नकाब भी है बहुत।

इस दफा मै रुलाऊँगा उसको,
बाकि मेरा हिसाब भी है बहुत।

दर्द की तो कुछ अब करो बातें
इश्क़ वाले किताब भी है बहुत।

कल तुम्हे छोड़कर चले गए थे,
लोग वो कामयाब भी है बहुत।

काटों से दोस्ती शुभम् कर पर,
बाग में तो गुलाब भी है बहुत।

258 Views
You may also like:
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम सब एक है।
Anamika Singh
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
देश के नौजवानों
Anamika Singh
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पिता
Mamta Rani
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
Loading...