Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#7 Trending Author
Nov 5, 2016 · 1 min read

झरना

झरना
✍✍✍

झरना हँसी का जो हसीन था
नजरों से तेरी महक उठा
बुलबुले जो बने पय से
रूप निखर उठा

मत निर्झरिणी सी तुम
यूँ लहराया करो
बादलों के बीच झाँकती
इन्द्रधनुष सी तुम
बारिश के बीच न आया
तुम करो

यूँ तेरा गर्जन के बीच
याद तेरी दे जाता प्रिये
धधक धधक कर
उठता धुंध सा मेघ
बरबस ही
याद तेरी सुलगा जाता
है प्रिय

डॉ मधु त्रिवेदी

72 Likes · 274 Views
You may also like:
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
दया***
Prabhavari Jha
सफर
Anamika Singh
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
महाप्रभु वल्लभाचार्य जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
आन के जियान कके
अवध किशोर 'अवधू'
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
पिता
Neha Sharma
رہنما مل گیا
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
पापा
Kanchan Khanna
Love song
श्याम सिंह बिष्ट
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
माँ की याद
Meenakshi Nagar
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
महापंडित ठाकुर टीकाराम (18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित)
श्रीहर्ष आचार्य
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
तुम चली गई
Dr.Priya Soni Khare
ये जिंदगी एक उलझी पहेली
VINOD KUMAR CHAUHAN
#मजबूरी
D.k Math
जिंदगी की कुछ सच्ची तस्वीरें
Ram Krishan Rastogi
Loading...