Oct 6, 2016 · 1 min read

जड़े होठों पर ताले…:शाश्वत कुण्डलिया छंद

बहता क्योंकर अनवरत पक्षपात का द्रव्य.
अर्जुन अवसर पा रहा, हाथ मले एकलव्य..
हाथ मले एकलव्य, जड़े होठों पर ताले.
किन्तु द्रोंण द्रव पियें मगन होकर मतवाले,
अर्जुन का हो नाम, दक्ष दूजा ही रहता.
अब तो सुधरें द्रोंण, नष्ट हो द्रव यह बहता..

इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

1 Comment · 164 Views
You may also like:
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
पिता
Dr. Kishan Karigar
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
भोपाल गैस काण्ड
Shriyansh Gupta
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
【12】 **" तितली की उड़ान "**
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
"एक नई सुबह आयेगी"
पंकज कुमार "कर्ण"
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
"ईद"
Lohit Tamta
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार "कर्ण"
तेरे रोने की आहट उसको भी सोने नहीं देती होगी
Krishan Singh
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गम हो या हो खुशी।
Taj Mohammad
समय के पंखों में कितनी विचित्रता समायी है।
Manisha Manjari
हिरण
Buddha Prakash
Loading...