Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2022 · 1 min read

ज्ञानवान मानव।

ज्ञानवान मानव हमेशा दूसरों के लिए जीतें रहते हैं।————परहित अपना धर्म समझकर करते रहते हैं।——————–नही किसी से भय खाते,न भयभीत रहते हैं। हमेशा सत्य के मार्ग पर चलते रहते हैं। किसी से कोई शिकायत नहीं करते हैं।—-हमेशा दूसरों के लिए लड़ते रहते हैं।——-नि :स्वारथ भाव से,दीन दुखियों की सेवा करते रहते हैं।——————————-दिल में कोई बैर भाव नही रखते हैं। हमेशा प्रसन्नता का भाव लिए रहते हैं। सभी जीवों में प्रभू के दर्शन करते रहते हैं।——-अंतकाल में मोक्ष को प्राप्त होते हैं।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 243 Views
You may also like:
एक यह भय जिससे
एक यह भय जिससे
gurudeenverma198
लालच
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
सफलता
सफलता
Ankita Patel
मनवा नाचन लागे
मनवा नाचन लागे
मनोज कर्ण
पहले प्यार का एहसास
पहले प्यार का एहसास
Surinder blackpen
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
मेरे हमसफ़र
मेरे हमसफ़र
Shyam Sundar Subramanian
समय के उजालो...
समय के उजालो...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
भूतपूर्व  (हास्य-व्यंग्य)
भूतपूर्व (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
■ कटाक्ष/ उलाहना
■ कटाक्ष/ उलाहना
*Author प्रणय प्रभात*
इन अश्कों की।
इन अश्कों की।
Taj Mohammad
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
क्या रखा है, वार (युद्ध) में?
Dushyant Kumar
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
आया यह मृदु - गीत कहाँ से!
Anil Mishra Prahari
सच बोलने की हिम्मत
सच बोलने की हिम्मत
Shekhar Chandra Mitra
💐अज्ञात के प्रति-103💐
💐अज्ञात के प्रति-103💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गज़ल
गज़ल
जगदीश शर्मा सहज
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
धीरे-धीरे समय सफर कर गया
Pratibha Kumari
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
पोथी समीक्षा -भासा के न बांटियो।
Acharya Rama Nand Mandal
दिल की बात
दिल की बात
rkchaudhary2012
काश आंखों में
काश आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
🚩सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
🚩सहज बने गह ज्ञान,वही तो सच्चा हीरा है ।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
***
*** " एक आवाज......!!! " ***
VEDANTA PATEL
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी है
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी...
J_Kay Chhonkar
बसंत ऋतु में
बसंत ऋतु में
surenderpal vaidya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
कुफ्र ओ शिर्क जलजलों का वबाल आएगा।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
✍️कुछ बाते…
✍️कुछ बाते…
'अशांत' शेखर
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी,...
dks.lhp
Loading...