Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जो सच पूछो तो जीने को फ़क़त इतनी जरुरत है !**************

जो सच पूछो तो जीने को फ़क़त इतनी जरुरत है !**************
रहने को छत, दो जून की रोटी,तन ढकने को हो कपड़ा
हर इंसां को हो कुछ काम निठल्ले पन का न लफड़ा
सुकूँ के चार पल ही आज की पहली जरुरत हैं
यूँ तो लाख ख्वाहिश हैं जो सब ही खूबसूरत हैं
जो सच पूछो तो जीने को फ़क़त इतनी जरुरत है! **************************
बचपन में मिले निज गेह माँ का नेह पितु आशीष,
संस्कारों से सुवासित गुरुजनो की प्रीत पावन हो,
सहोदर हो सुखी पुष्पित पल्ल्वित गृह का प्रांगण हो
दादा और दादी हों सुख से सब ही परिजन हों
सभी मिल के रहें घर में लगें खुशियों की मूरत हैं
जो सच पूछो तो जीने को फ़क़त इतनी जरुरत है!!*************************************
कि है ये चार दिन की ज़िंदगी सौ वर्ष का सामान
मिले दो जून कि रोटी न डिगने पाए ये ईमान
कि बस सम्मान कि रोटी हमें सबसे ही प्यारी है
हकीकत ज़िंदगी कि ये अलग सबसे ही न्यारी है
सरल सबसे सहज दिखती यही ईमान कि सूरत है
जो सच पूछो तो जीने को फ़क़त इतनी जरुरत है !!!*********************************

131 Views
You may also like:
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मेरे साथी!
Anamika Singh
पिता
Meenakshi Nagar
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
महँगाई
आकाश महेशपुरी
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
# पिता ...
Chinta netam " मन "
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
Loading...