Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 23, 2020 · 1 min read

जो दोगे खून का कतरा

लहु का मांग के कतरा जो सीना तान बैठा था
नही मालूम था सबको जो उसने मान बैठा था।
ये जिद थी जान देकर भी वतन आजाद करना है
तभी तो जान लेने की भी मन मे ठान बैठा था।

वही सुभाष हैं जिसनें दिया “जय हिंद” का नारा
जो दोगे खून का कतरा मिलेगा देश ये प्यारा।
वो जीना भी क्या जीना है जो लड़के जीत ना जाए
ये जंजीरें गुलामी की मिटा दो देश के यारा।
जटाशंकर”जटा”
२३-०१-२०२०

3 Likes · 3 Comments · 395 Views
You may also like:
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
✍️गर्व करो अपना यही हिंदुस्थान है✍️
"अशांत" शेखर
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
छोटा-सा परिवार
श्री रमण
तेरे हाथों में जिन्दगानियां
DESH RAJ
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
पिता अम्बर हैं इस धारा का
Nitu Sah
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
दहेज़
आकाश महेशपुरी
वो कहते हैं ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H. Amin
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
"अशांत" शेखर
न्याय का पथ
AMRESH KUMAR VERMA
"सुनो एक सैर पर चलते है"
Lohit Tamta
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
बेटी....
Chandra Prakash Patel
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
सालो लग जाती है रूठे को मानने में
Anuj yadav
🌺🌺Kill your sorrows with your willpower🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं वफ़ा हूँ अपने वादे पर
gurudeenverma198
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
सौगंध
Shriyansh Gupta
Loading...