Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2022 · 1 min read

जो दिल ओ ज़ेहन में

जो दिल-ओ-ज़ेहन में हयात है ।
बे मायने फिर उनकी वफ़ात है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
9 Likes · 2 Comments · 205 Views
You may also like:
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनाथ
Kavita Chouhan
" हैप्पी और पैंथर "
Dr Meenu Poonia
तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
पत्थर दिल
Seema 'Tu hai na'
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
इन्साफ
Alok Saxena
उम्मीद की किरण
shabina. Naaz
जो चाहे कर सकता है
Alok kumar Mishra
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
मतलब नहीं इससे हमको
gurudeenverma198
डूबता सूरज हूंँ या टूटा हुआ ख्वाब हूंँ मैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
बे'क़रारी का पूछ न आलम
Dr fauzia Naseem shad
तो क्या होगा?
Shekhar Chandra Mitra
कृष्ण
Neelam Sharma
कनुप्रिया
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
तात्या टोपे बलिदान दिवस १८ अप्रैल १८५९
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंतर्मन के दीप
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चल उसमें बनके चिराग जलते है।
Taj Mohammad
है कौन सही है गलत क्या रक्खा इस नादानी में,
कवि गोपाल पाठक''कृष्णा''
एहसास
Ashish Kumar
वही मेरी कहानी हो
Jatashankar Prajapati
✍️वो पलाश के फूल...!✍️
'अशांत' शेखर
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
आता है याद सबको ही बरसात में छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...