Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#19 Trending Author
May 20, 2022 · 1 min read

जो… तुम मुझ संग प्रीत करों…

तुम जो हो मेरे जीवन में
तो आ जाएँ करार मेरे मन में..!!
न रहे कोई चाहत अधूरी
पूरी हो आरजू हमारे दिल की..!!
हो न कोई उलझन मुझे
जो तुम सुलझाओ उसे…!!
अखियाँ में निंदियां भी कहाँ,
जो तुम मुझसे बातें करों..!!
मैं हो जांऊ बांवरिया…
जो तुम…मुझ संग प्रीत करों…..!!!!.

64 Views
You may also like:
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
सीख
Pakhi Jain
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
"अशांत" शेखर
पिता
Manisha Manjari
Waqt
ananya rai parashar
उसकी दाढ़ी का राज
gurudeenverma198
वक्त दर्पण दिखा दे तो अच्छा ही है।
Renuka Chauhan
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
कोई तो हद होगी।
Taj Mohammad
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
खामोशियाँ
अंजनीत निज्जर
इतना न कर प्यार बावरी
Rashmi Sanjay
बरगद का पेड़
Manu Vashistha
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
गर्भ से बेटी की पुकार
Anamika Singh
पिता
Vijaykumar Gundal
इंसान जीवन को अब ना जीता है।
Taj Mohammad
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
#जातिबाद_बयाना
D.k Math
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
Loading...