Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 23, 2022 · 1 min read

जो चाहे कर सकता है

जो स्वयं से आलस निकालकर,
संघर्ष स्फूर्ति से भरता है।
वो जो चाहे सब मिलता है।
वह जो चाहे कर सकता है।

जो पाने का मोह छोड़कर,
कर्तव्य प्रेम राह पकड़ता है।
वो जो चाहे सब मिलता है।
वो जो चाहे कर सकता है।

जो बनने का स्वप्न विदा कर,
करने के स्वागत में जगता है।
वो जो चाहे सब मिलता है।
वो जो चाहे कर सकता है।

जो मेहनत का लेप लगाकर,
निज जीवन मे निखरता है।
वो जो चाहे सब मिलता है।
वो जो चाहे कर सकता है।

जो चिंता को शत्रु बनाकर,
चिंतन को मित्र समझता है।
वो जो चाहे सब मिलता है।
वो जो चाहे कर सकता है।

1 Like · 86 Views
You may also like:
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शब्दों से परे
Mahendra Rai
अल्फाज़ ए ताज भाग-3
Taj Mohammad
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
इश्क ए दास्तां को।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां क्यों निष्ठुर?
Saraswati Bajpai
कारवाँ:श्री दयानंद गुप्त समग्र
Ravi Prakash
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
ख्वाब
Swami Ganganiya
लत...
Sapna K S
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हौसला
Mahendra Rai
कोई किस्मत से कह दो।
Taj Mohammad
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
Loading...