Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जो किये तुमने शरारत कौन जाने!

जो किये तुमने शरारत कौन जानें।
इश्क़ में जो है बगावत कौन जाने।

तुम कभी नाराज ना होना किसी से,
सामने क्यों है पड़ा ख़त कौन जाने।

थाम तो ले हाँथ मेरा आज कोई,
बेबसी की वो हकीकत कौन जाने।

आसरा अब मैं करूँ किसका बता दे,
है कहाँ रब की अदालत कौन जाने।

चैन से ही कट रही थी जिंदगी जो,
अब सजा है या मुहब्बत कौन जाने।

शर्म से खिलता गुलाबी चेहरा है,
और उसकी वो नज़ाकत कौन जाने।

देखते ही रह गए उसको सभी यूँ,
है किसी की वो अमानत कौन जाने।

अब बचे कैसे शुभम् नजरों से उसकी,
कैद की क्या है जमानत कौन जाने।

2 Comments · 111 Views
You may also like:
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
बेपरवाह बचपन है।
Taj Mohammad
माँ का प्यार
अनामिका सिंह
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
The flowing clouds
Buddha Prakash
माँ की याद
Meenakshi Nagar
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कर्म करो
अनामिका सिंह
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
जल है जीवन में आधार
Mahender Singh Hans
"योग करो"
Ajit Kumar "Karn"
*सुप्रभात की सुगंध*
Vijaykumar Gundal
🌷"फूलों की तरह जीना है"🌷
पंकज कुमार "कर्ण"
लड़के और लड़कियों मे भेद-भाव क्यों
अनामिका सिंह
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का दर्द
अनामिका सिंह
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
Loading...