Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2022 · 1 min read

जैसा भी ये जीवन मेरा है।

कभी मीठा सा, कभी खारा सा,
उन्मुक्त कभी कभी कारा सा,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
लगे गैर कभी, कभी अपना सा,
कभी सच्चा फिर कभी सपना सा,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
कभी विजयी हुआ, कभी हारा सा,
कहीं पूर्ण, भग्न कहीं तारा सा,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
विश्वास भरा कभी शंकित सा,
कभी मौन हुआ, कभी अंकित सा,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
कहीं हास भरा, कहीं रूदन भरा,
कहीं प्रेम घना, कहीं विरह भरा,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
कभी सत्व भाव, कभी रजस भरा,
कभी तम भी छाया अति घना,
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
मैं जैसी हूँ स्वीकार इसे,
है सब कुछ अंगीकार इसे,
प्रतिपल ये मेरे संग सदा
जैसा भी ये जीवन मेरा है।

2 Likes · 6 Comments · 148 Views
You may also like:
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
न और ना प्रयोग और अंतर
Subhash Singhai
उलझन
Anamika Singh
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तेरी याद में
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जनसंख्या नियंत्रण कानून कब ?
Deepak Kohli
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr.Alpa Amin
बुंदेली हाइकु- (राजीव नामदेव राना लिधौरी)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Sweet Chocolate
Buddha Prakash
हलाहल दे दो इंतकाल के
Varun Singh Gautam
क्या करे
shabina. Naaz
देश के हित मयकशी करना जरूरी है।
सत्य कुमार प्रेमी
लेख : प्रेमचंद का यथार्थ मेरी दृष्टि में
Sushila Joshi
हाय गर्मी!
Manoj Kumar Sain
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
प्रभु आशीष को मान दे
Saraswati Bajpai
# मां ...
Chinta netam " मन "
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
तू ही पहली।
Taj Mohammad
पिता
Meenakshi Nagar
पंचशील गीत
Buddha Prakash
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
हे शिव ! सृष्टि भरो शिवता से
Saraswati Bajpai
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
'शान उनकी'
Godambari Negi
Loading...