Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जेनयू बलात्कार कांड पर कविता

जेनयू में बलात्कार हुआ, हां सही सुना जी बलात्कार हुआ,
पर क्या बलात्कार पर कहीं शोर शराबा या हाहाकार हुआ।

दया शंकर के ब्यान पर दहाड़ने वाले शेर छिप गए हैं कहीं,
इस वोटों की राजनीति के आगे हर कोई आज लाचार हुआ।

रियो ओलंपिक में बेटियों के मेडल लाने पर थे खुश सभी,
अब कहाँ गए वो सारे जब बेटी की इज्जत पर वार हुआ।

नेता जी तुम्हारी बेटियाँ चलती हैं सुरक्षाकर्मियों के घेरे में,
अकेली भेजो बेटी को बाहर, पता चले, कैसा सत्कार हुआ।

उन वकीलों से भी विनती है जो बचाते हैं बलात्कारियों को,
उस बेटी पर क्या बीत रही होगी जिस पर अत्याचार हुआ।

बेच देते हो ज़मीर को चंद वोटों और सिक्कों के लिए तुम,
क्या बीतेगी दिल पर जब तुम्हारी बेटी से व्याभिचार हुआ।

जब एक बेटी की इज्जत ही नहीं बचा पाती है सरकार,
उसका “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” का नारा बेकार हुआ।

उम्मीद है कलमकारों से सोये हुए ज़मीरों को जगा दें वो,
जो बदलाव ना ला सका सुलक्षणा कैसा वो कलमकार हुआ।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

554 Views
You may also like:
💐💐प्रेम की राह पर-18💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
विश्वासघात
Mamta Singh Devaa
श्री भूकन शरण आर्य
Ravi Prakash
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
✍️तलाश ज़ारी रखनी चाहिए✍️
"अशांत" शेखर
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
यह तो वक्ती हस्ती है।
Taj Mohammad
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक हरे भरे गुलशन का सपना
ओनिका सेतिया 'अनु '
Born again with love...
Abhineet Mittal
गुरू गोविंद
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जग का राजा सूर्य
Buddha Prakash
पढ़ाई-लिखाई एक बोझ
AMRESH KUMAR VERMA
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
नए जूते
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
आकर मेरे ख्वाबों में, पर वे कहते कुछ नहीं
Ram Krishan Rastogi
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
Loading...