Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#9 Trending Author
Jun 10, 2022 · 1 min read

जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)

जूते में बहुत गुण है,सदा राखिए अपने पास।
दुश्मन से ये बचाए,कोई न फटके आस पास।।

मैडम जूती सदा राखिए,बिन जूती सब है सून।
जूती बिना न उबरे,राजकाज राजनीति के चून।।

पड़े जूती प्रेमिका की,समझो अपने को निहाल।
जल्दी ही पड जाएगी,तुम्हारे गले में है जयमाल।।

औरत को न समझिए,पैरो की जूती तुम यार।
समझ जल्दी आ जायेगी जब पड़ेगी की मार।।

जूता जूती का पुलिंग है,इसमें न है दो राय।
जूती जब जूता बन जाए,पुलिंग करे हाय।।

जूते की बड़ी महिमा है,देखो संसद में इसका खेल।
जब कोई बिल न पास हो इसकी करो पेलम पेल।।

जयपुर कानपुर और कोल्हापुर इसके,इसके है बाजार।
हर तरह की मिल जायेगी सिर को पक्का रक्खों यार।।

बेलन चिमटा ही थे कभी पत्नियों के हाथियार।
अब तो जूती बनी,उनका सबसे बड़ा हाथियार।।

रस्तोगी भी लिख रहा,जूते जूती पर अपने विचार।
इसको डर लग रहा कहीं पड न जाए उसको मार।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

3 Likes · 4 Comments · 263 Views
You may also like:
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
'अशांत' शेखर
आदमी आदमी से डरने लगा है
VINOD KUMAR CHAUHAN
*पार्क में योग (कहानी)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल- कहां खो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
जिंदगी तो धोखा है।
Taj Mohammad
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
दिल का करार।
Taj Mohammad
तुम्हें देखा
Anamika Singh
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
धरती कहें पुकार के
Mahender Singh Hans
संतुलन-ए-धरा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
'अशांत' शेखर
बुद्धिमान बनाम बुद्धिजीवी
Shivkumar Bilagrami
ओ जानें ज़ाना !
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️रुसवाई✍️
'अशांत' शेखर
कोई तो है कहीं पे।
Taj Mohammad
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
सारे द्वार खुले हैं हमारे कोई झाँके तो सही
Vivek Pandey
हमलोग
Dr.sima
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
#आर्या को जन्मदिन की बधाई#
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
लिपट कर तिरंगे में आऊं
AADYA PRODUCTION
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
स्वाबलंबन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...