Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 23, 2022 · 1 min read

जुल्म

जुल्मों से भरी इस मुल्क में
छल, कप्टी, पापी, अन्यायी
इन सबों से भरी है ये सृष्टि
अच्छे को भी बुरा दिखा देती ।

इस दुनिया में जुल्मों का ही,
पापों का ही प्राधान्य जग में !
कुछ पल के लिए उत्तम भी,
अधम बन जाता है जग में ।

जुल्मों का बहुलता बढ़ता जब
अच्छे को भी झुकना पड़ जाता
कुछ समय बाद उनकी ही जय !
अक्सर अच्छे भी दिखने लगते बुरे।

जुल्म करने वाला विरुद्धाचरण को
सदा ही रहता मृत्यु का भय उसे
जैसे को तैसा होता इस दुनिया में
अश्वखुरा का परिणाम होता वहीं ।

जुल्म कब तक करेगा पपिष्ठ
आखिर तय उनका भी अंत
कब तक सता पाओगे हमें ?
तुम्हारा अंत तय है जगत में ।

1 Like · 2 Comments · 52 Views
You may also like:
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जीवनदाता वृक्ष
AMRESH KUMAR VERMA
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
दर्द की कश्ती
DESH RAJ
लिखे आज तक
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शब्दों के एहसास गुम से जाते हैं।
Manisha Manjari
मोरे सैंया
DESH RAJ
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
कभी मिलोगी तब सुनाऊँगा ---- ✍️ मुन्ना मासूम
मुन्ना मासूम
तो ऐसा नहीं होता
"अशांत" शेखर
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
**अनमोल मोती**
Dr. Alpa H. Amin
यूं हुस्न की नुमाइश ना करो।
Taj Mohammad
सुबह
AMRESH KUMAR VERMA
बेफिक्री का आलम होता है।
Taj Mohammad
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
मील का पत्थर
Anamika Singh
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...