Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

जुल्फ जब खुलकर बिखर गई

जुल्फ जब खुलकर बिखर गई
याद सावन की आ गई
अजीब मेरी हालत है
ऐसे में बस याद तेरी आ गई
मौसम बना रेशमी भीगा वस्त्र
आंखों में रोशनी सी आ गई
मुझे मिली खबर जब
अंगडाई में तेरी याद आ गई
मुद्दत के बाद आंचल हिला
जीस्त में दीद की याद आ गई
तुमने ली अंगडाई
मुझे तुम्हारी याद आ गई
’अंजुम’ नदी का तेज सा बहाव
नाव पर नहीं है बचाव
कैसे हो बचाव
जुल्फ जब खुलकर बिखर गई

नाम-मनमोहन लाल गुप्ता ’अंजुम’
जाब्तागंज, नजीबाबाद, जिला बिजनौर, यूपी
मोबाइल नंबर-9152859828

1 Like · 117 Views
You may also like:
अच्छा मित्र कौन ? लेख - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
हम भी
Dr fauzia Naseem shad
उसके मेरे दरमियाँ खाई ना थी
Khalid Nadeem Budauni
जहाँ न पहुँचे रवि
विनोद सिल्ला
गुलिस्तां
Alok Saxena
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
उस निरोगी का रोग
gurudeenverma198
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
फासले
Seema 'Tu haina'
जिसको चुराया है उसने तुमसे
gurudeenverma198
गुरुवर
AMRESH KUMAR VERMA
मां के आंचल
Nitu Sah
बेजुबान
Anamika Singh
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
* तु मेरी शायरी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मां
साहित्य गौरव
सहरा से नदी मिल गई
अरशद रसूल /Arshad Rasool
प्यारी मेरी बहना
Buddha Prakash
अशिक्षा
AMRESH KUMAR VERMA
✍️तन्हा खामोश हूँ✍️
'अशांत' शेखर
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
कोई कासिद।
Taj Mohammad
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
ट्रेजरी का पैसा
Mahendra Rai
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
Loading...