Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#5 Trending Author

✍️जुर्म संगीन था…✍️

✍️जुर्म संगीन था…✍️
……………………………………………………………//
उम्मीद पे खरा उतरु ये तेरा अज़ीब यकीन था
मैं खुदा नहीं,खुदा के लिए भी ये नामुमकिन था

आसमाँ के बुलंदियों को छूना आसाँ नहीं होता
अर्श से फर्श पर गिरना मेरे लिए भी तौहीन था

हमने तो सारी खुशियाँ सबके हिस्से की बाँट दी
एक तेरे महफ़िल में गम बाँटने का जुर्म संगीन था

मुद्दते गुजरी थी उसको मिले,पूछा हाल कैसा है?
चेहरा मायूस था पर अंदर मिज़ाज बड़ा रंगीन था

मेरे ना होने का दर्द सता रहा होगा तेरे कूचे को
नाशाद रही जिंदगी इश्क़ में और मैं ग़मगीन था…

हरा था या केसरी किस रंग में रंगाई थी वो चुनरी
हमें तो बस इतना याद है वो रंगरेज़ बड़ा हसीन था
.………………………………………………………………//
✍️”अशांत”शेखर✍️

2 Likes · 7 Comments · 108 Views
You may also like:
रोता आसमां
Alok Saxena
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
गन्ना जी ! गन्ना जी !
Buddha Prakash
What you are ashamed of
AJAY AMITABH SUMAN
✍️जिंदगी की सुबह✍️
'अशांत' शेखर
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जश्न आजादी का
Kanchan Khanna
पत्थर दिल है।
Taj Mohammad
वक्त लगता है
Deepak Baweja
ईमानदारी
AMRESH KUMAR VERMA
चल-चल रे मन
Anamika Singh
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
✍️एक फ़रियाद..✍️
'अशांत' शेखर
आँखों में पूरा समंदर छिपाये बैठे है,
डी. के. निवातिया
# बारिश का मौसम .....
Chinta netam " मन "
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
मिटटी की मटकी
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
बात चले
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मेरे मन के भाव
Ram Krishan Rastogi
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
ये जी चाहता है।
Taj Mohammad
बे'एतबार से मौसम की
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत
Kanchan sarda Malu
✍️"बारिश भी अक्सर भुख छीन लेती है"✍️
'अशांत' शेखर
नशामुक्ति (भोजपुरी लोकगीत)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...