Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जुदाई

???ललित छंद???
जुदाई, ये जुदाई सहना,
मुश्किल है कन्हाई।
तुझ से दूर-दूर यूँ रहना,
दर्द भरी तन्हाई।। 1
नजरें जहाँ कहीं भी डालूं,
तेरी ही छवि पाई।
पलकें बंद करूँ या खोलूँ,
झाँकी नयन समाई।। 2

पल-पल याद सताये तेरी,
देख आँख भर आई।
उस पर बारिश की ये बूँदें,
प्रणय वेदना लाई।। 3
प्रेम का प्यासा विरह ज्वाला,
तन-मन अगन लगाई।
मन का पंछी हुआ बावरा,
धीर कहीं ना पाई।। 4

सांझ बनी है सौतन बैरी,
पपीहा हुक उठाई।
राग-रागिनी मन बहकावे,
विचलित मन अकुलाई।। 5
मन व्याकुल कुछ भी ना भाये,
जान मेरी दुहाई।
तुझे देखने को दिल तरसा,
कैसे सहे जुदाई।। 6

????—लक्ष्मी सिंह ?☺

263 Views
You may also like:
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Shailendra Aseem
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता
Dr. Kishan Karigar
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
पिता
Manisha Manjari
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...