Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2018 · 1 min read

जुद़ा किनारे हो गये

वेपर्द़ा नशी गलियों के पर्द़ा हो गये ,
मतलब की गरज़ से हमारे हो गये ।
जग यार बने यारी की दम दे गये ,
वक्त पर नदी के किनारे हो गये ।
लुभाया चाँद-सितारों का सपना दिखा,
मक़ाम आया तो जुदा किनारे हो गये ।
कारवां बढ़ता रहा हाथों को थामके ,
कितने दूर पलक़ के तारे हो गये ।
फस़ले ब़हार क्यूँ रूठी है चमन से ,
मुंह के निव़ाले अब नियारे हो गये ।
————————————————-
शेख जाफर खान

8 Likes · 4 Comments · 355 Views
You may also like:
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
जीवन है यदि प्रेम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पोहा पर हूँ लिख रहा
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
त्याग
Saraswati Bajpai
खुदा मुझको मिलेगा न तो (जानदार ग़ज़ल)
रकमिश सुल्तानपुरी
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
💐💐प्रेम की राह पर-74💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फ़ौजी
Lohit Tamta
” विषय ..और ..कल्पना “
DrLakshman Jha Parimal
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
आख़िरी ग़ुलाम
Shekhar Chandra Mitra
तेरे रूप अनेक हैं मैया - देवी गीत
Ashish Kumar
The Rope Jump
Buddha Prakash
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*#गोलू_चिड़िया और #पिंकी (बाल कहानी)*
Ravi Prakash
#हमसफ़र
Seema 'Tu hai na'
तेरी दहलीज पर झुकता हुआ सर लगता है
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"भीमसार"
Dushyant Kumar
चिरनिन्द्रा
विनोद सिल्ला
इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
बंदिशें भी थी।
Taj Mohammad
ग़ज़ल- मयखाना लिये बैठा हूं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हालात
Surabhi bharati
ठंडे पड़ चुके ये रिश्ते।
Manisha Manjari
जिंदगी की डगर में मुझको
gurudeenverma198
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है। [भाग ७]
Anamika Singh
💐 एक अबोध बालक 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...