Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 13, 2016 · 1 min read

जी लेती है जी भरकर के…मुस्कुराती सी

सुबह की मस्त सुहानी हवा से
झूमते पत्तो फूलो की डाली
सूरज की पहली किरण
इठलाती सी ओस की बुँदे को
स्पर्श कर जो नाच रही
चमक रही मोती सी गुलाब की
पंखुड़ी पर पल पल जी रही
बेपरवाह हो कर वो,
एक झोंके से पल की जिंदगी मेरी मिल जायेगी
नम मिट्टी पर ये जानते हुए,
मोती सी वो नाच रही ओस की बूँद
सूरज की पहली किरण के साथ
मुस्कुराती सी पल पल,
जीने का राज जान लिया मैंने भी
उस ओस की चमकती बूँद से
जो पल भर के जिंदगी को जी लेती है,
जी भर के सूरज की पहली किरण के साथ
मुस्कुराती सी?☺?

^^^^दिनेश शर्मा^^^^

222 Views
You may also like:
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
*"पिता"*
Shashi kala vyas
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Kanchan Khanna
पिता
Manisha Manjari
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Mamta Rani
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
💔💔...broken
Palak Shreya
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...