Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2016 · 1 min read

जी करता है…..

फैला कर बाहें,
बिखरे हुए जज्बात को समेट लूं,
जी करता है,
तुम्हें अंग-अंग में लपेट लूं.

बदल दूं फाल्गुनी राग,
नई मल्हार जगा दूं,
दिल की धुन में बहक-बहक,
तार-तार खनका दूं .

इस कदर हो जाऊं तुम पर न्यौछावर,
रग-रग में जंग भर दूं,
खुद रँग जाऊँ रंग तुम्हारे,
रोम-रोम तुमको रँग दूं.

***** हरीश चन्द्र लोहुमी

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 353 Views
You may also like:
उसको भेजा हुआ खत
कवि दीपक बवेजा
ईर्ष्या
Saraswati Bajpai
इम्तिहान
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आत्मनिर्भरता का फार्मूला
Shekhar Chandra Mitra
वो कली मासूम
सूर्यकांत द्विवेदी
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️कोई बैर नहीं है✍️
'अशांत' शेखर
जिनवानी स्तुती (अभंग )
Ajay Chakwate *अजेय*
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता -९०
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तितलियाँ
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कितने मादक ये जलधर हैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*केले खाता बंदर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
कलम नही लिख पाया
Anamika Singh
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
पहली भारतीय महिला जासूस सरस्वती राजमणि जी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माँ की ममता
gurudeenverma198
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
मन की बात
Rashmi Sanjay
कोहिनूर
Dr.sima
हंसना और रोना।
Taj Mohammad
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संताप
ओनिका सेतिया 'अनु '
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
जश्ने-आज़ादी की इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
वही मेरी कहानी हो
Jatashankar Prajapati
तिरंगा
Ashwani Kumar Jaiswal
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...