Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 1, 2021 · 1 min read

” जीवित जानवर “

जीभ मुझे भी दी है भगवान ने
क्या हुआ जो बोलता नहीं हूं
भावनाएं तो बसी हैं मुझमें भी
मैं जानवर भी सजीव ही हूं,
पेट भरता हूं माना रूखे सूखे से
लेकिन, तुझ नर जैसे देखता तो हूं
आशियाना सिर पर नहीं है मेरे
हूं मैं जानवर लेकिन, जीवित तो हूं,
माना खूंटे से मैं बंधा हुआ, लेकिन
अहसास दर्द का महसूस करता तो हूं
पीड़ा मेरी मीनू तूं भी ना समझे
तुझ जैसे बच्चों को जन्म देता तो हूं,
चोट लगे तब बयां नहीं कर पाता
लेकिन, कष्ट में कराहता तो हूं
निज तरीके से समझाने का प्रयास करता
नर नहीं हूं मैं जानवर ही तो हूं।

3 Likes · 3 Comments · 443 Views
You may also like:
नशे में मुब्तिला है।
Taj Mohammad
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुझसे रूठ कर
Sadanand Kumar
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
जिन्दगी का सबक
Anamika Singh
मुजीब: नायक और खलनायक ?
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आंधी में दीया
Shekhar Chandra Mitra
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
नयी बहुरिया घर आयी*
Dr. Sunita Singh
🌺परमात्प्राप्ति: स्वतः सिद्ध:,,✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
सीधेपन का फ़ायदा उठाया न करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️प्रेम खेळ नाही बाहुल्यांचा✍️
'अशांत' शेखर
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu haina'
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
"जटा"कलम को छोड़
Jatashankar Prajapati
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
एक शख्स सारे शहर को वीरान कर जाता हैं
Krishan Singh
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
क्यों भिगोते हो रुखसार को।
Taj Mohammad
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
अल्फाज़ ए ताज भाग-4
Taj Mohammad
जी हाँ, मैं
gurudeenverma198
Loading...