Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Oct 2016 · 1 min read

जीवन से जन्म हुआ,जीवन ही तो लक्ष्य है:: जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट७१)

राजयोगमहागीता:: सारात्सार::: घनाक्षरी ५/२१
————–, जीवनसे जन्म हुआ,जीवनही तो लक्ष्य है
जीवनको सत्य शिव सुंदर बनाना है ।
होकर निर्द्वंद्ध और होकर विदेही – सम
राजयोग से ही मन — मंदिर बनाना है ।
समग्र मानवता ही आती इस परिधि में ,
आत्मकेंद्रित होके हितकर बनाना है ।
बनके ब्रह्माण्डीय ,गेह का आभास न कर,
हित परमार्थ के सुखकर बनाना है ।।५/२१!!

—–+ जितेंद्रकमलआनंद::::: रामपुर( उ प्र ) भारत

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 286 Views
You may also like:
A solution:-happiness
Aditya Prakash
🌈🌈प्रेम की राह पर-66🌈🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बटेसर
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-2)
Sahityapedia
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
तोरी ढिल्या देहें चाल ( बुन्देली ,लोक गीत)
कृष्णकांत गुर्जर
दूर रहकर तुमसे जिंदगी सजा सी लगती है
Ram Krishan Rastogi
बंदर भैया
Buddha Prakash
तन्मय
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*हम बच्चे हिंदुस्तान के { बालगीतिका }*
Ravi Prakash
जयकार हो जयकार हो सुखधाम राघव राम की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरे करीब़ हो तुम
VINOD KUMAR CHAUHAN
कहां मालूम था इसको।
Taj Mohammad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
तेरा हर लाल सरदार बने
Ashish Kumar
पसंदीदा व्यक्ति के लिए.........
Rahul Singh
अनगढ़ हीरा
Shekhar Chandra Mitra
दुनियादारी में
surenderpal vaidya
# मां ...
Chinta netam " मन "
प्रतियोगिता
krishan saini
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
'अशांत' शेखर
तपिश
SEEMA SHARMA
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
गुरूर का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
प्रवाह में रहो
Rashmi Sanjay
वीर
लक्ष्मी सिंह
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
इससे बड़ा हादसा क्या
कवि दीपक बवेजा
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
Loading...